आज के इस ब्लॉग के माध्यम से हम आपको बता रहे की डिजिटल मार्केटिंग क्या है? इसका कोर्स कैसे करे? डिजिटल मार्केटिंग का महत्व क्या है? और इसके क्या फायदे है? इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए हम डिजिटल मार्केटिंग से जुडी सम्पूर्ण जानकारी आपके साथ साझा कर रहे है.

आज के नए युग मे इंटरनेट के द्वारा बिज़नेस को नये तरीके से और लोगो तक आसानी से पहुंचाने के लिए सबसे अच्छा साधन माना जा रहा है.

आज ज्यादा से ज्यादा लोग अपना समय इंटरनेट पर गुज़ारते है और सारी जानकारी इंटरनेट से हासिल करते है. इसलिए आज जरुरी हो गया है की आप भी इंटनेट की मदद से अपने बिज़नेस को प्रमोट करे और विश्व के किसी भी कोने में बैठे हुए इंसान तक आप अपने बिज़नेस को पंहुचा सकते है. इसके लिए जो सबसे जरुरी चीज़ है वो है “डिजिटल मार्केटिंग”.

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम डिजिटल मार्केटिंग की सारी जानकारी आपके साथ करने वाले है जिससे सीख कर आप भी अपने बिज़नेस को प्रमोट कर सकते है

तो चलिए अब शुरू करते है की डिजिटल मार्केटिंग क्या होता है और आपके बिज़नेस के लिए क्यों जरुरी है.

डिजिटल मार्केटिंग की मीनिंग क्या है?

“जब आप अपने बिज़नेस, प्रोडक्ट या सर्विस को इंटरनेट या दूसरे किसी डिजिटल उपकरणों की मदत से प्रमोट करते तो उसे कहते है डिजिटल मार्केटिंग मार्केटिंग।”

जैसे की सर्च इंजन, सोशल मीडिया, ईमेल मार्केटिंग, एफिलिएट मार्केटिंग, मोबाइल एप्लिकेशन और भी बहुत कुछ माध्यमों का यूज़ करके एडवरटाइजिंग दिए जा रहे है.
डिजिटल मार्केटिंग इंटरनेट का एक ऐसा प्लेटफॉर्म  है जिसपर सही तरीके से एडवरटाइज करके हम लोगो को अपने बिज़नेस या सर्विस की तरफ अट्रैक्ट कर सकते है . डिजिटल मार्केटिंग को ऑनलाइन मार्केटिंग कहा जाता है. 

डिजिटल मार्केटिंग के उदाहरण क्या – क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग के तो वैसे बहुत सरे उदाहरण है पर आज के इस ब्लॉग में हम 9 उदाहरण के बारे में बात करेंगे ऑनलाइन मार्कटिंग की 9 बड़ी श्रेणियां हैं:

  1. सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO)
  2. सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM)
  3. सोशल मीडिया मार्केटिंग (SMM)
  4. पे पर क्लिक एडवरटाइजिंग (PPC)
  5. कंटेंट मार्केटिंग
  6. एफिलिएट मार्केटिंग
  7. ईमेल मार्केटिंग
  8. मार्केटिंग ऑटोमेशन
  9. ऑनलाइन प्रेस रिलीज़

1) सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (Search Engine Optimization)

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन एक ऐसी तकनीक है जिसके द्वारा आप अपनी वेबसाइट की क्वालिटी को improve करके गूगल या किसी अन्य सर्च इंजन पर रैंक करवा सकते है| गूगल या सर्च इंजन पर वेबसाइट रैंक होने पर आप मनचाही ट्रैफिक अपनी वेबसाइट पर जनरेट कर सकते है

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन को 3 पार्ट में  है

i) ON- PAGE SEO:- ऑन-पेज एसईओ (“ऑन-साइट” एसईओ भी बोलते है) आपकी वेबसाइट मे होने वाले सभी बदलाव को  अनुकूलित करने का काम है जो सर्च इंजन रैंकिंग बढाकर करते है आपके द्वारा नियंत्रित किया गया  कन्टेन्ट आपकी अपनी वेबसाइट को फिर से प्रभावित करता है। यहां SEO  का मुख्य घटक है.

ऑन-पेज एसईओ  रैंकिंग बढ़ा कर और सर्च  इंजन में अधिकांश  ट्रैफ़िक निर्माण करके आपने वेबसाइट पेज पे  ज़्यादा से ज़्यादा नियंत्रण रखता है. ऑन-पेज ये main पेज की content  और  HTML Code language को दर्शाता है .

उदाहरण:- अपनी वेबसाइट की  रैंकिंग बढ़ाने के लिए आप वेबसाइट के अंदर  टेक्निकल बदलाव करते है वह सारे  On Page SEO  के अंदर आते है। जैसे की कीवर्ड्स रिसर्च (keywords research),मेटा टैग (Meta Tag),टाइटल (Title) ,इमेज का टाइटल(Image title), वेबसाइट स्ट्रक्चर (website structure),यूआरएल (URL) कॉन्टेंट (content) इन सभी चीज़ो पर काम किया जाता है SEO की गाइडलाइन्स के अनुसार  

इसमे  भी  2 टाइप होते है –

  • बेसिक OnPage  फैक्टर
  • एडवांस OnPage  फैक्टर.

ii) OFF-PAGE SEO:- OFF Page SEO में हम अपनी वेबसाइट को प्रमोट करते है| इसके किये हम अलग अलग वेबसाइट पर अपना कॉन्टेंट शेयर करते है और उसी कॉन्टेंट में अपनी वेबसाइट की लिंक भी दे देते है जिसके कारण हम वेबसाइट पर ट्रैफिक बड़ा सकते है और इस प्रोसेस को लिंक बिल्डिंग भी कहते है|
जितनी अछि वेबसाइट से आप लिंक बिल्डिंग करेंगे उतनी ही आपकी वेबसाइट  की क्वालिटी इम्प्रूव होगी और गूगल पर वेबसाइट आराम से रैंक होने लगेगी| कोशिश करे की जो लिंक आप बना रहे है दूसरी वेबसाइट से हो, वो वेबसाइट भी अपनी instrusrty की होगी तो आपको ज्यादा लिंक मिलेगा और आपकी वेबसाइट का ट्रस्ट फैक्टर (trust factor ) भी बाद जायेगा| जितना अच्छा ट्रस्ट फैक्टर (trust factor ) होगा उतनी अच्छी गूगल पर रैंकिंग होगी|

iii) TECHNICAL SEO:- TECHNICAL SEO के अंदर हम वेबसाइट के स्ट्रक्चर एंड कोडिंग को फिक्स करते है| वेबसाइट की कोडिंग में अगर कुछ प्रॉब्लम है तो हम उससे फिक्स करेंगे जैसे की कोई error हो सकती है या वेबसाइट की स्पीड की प्रॉब्लम हो सकती है या वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली ना हो और भी ऐसी बहुत सारी चीज़े होती है जिससे कोडिंग में सुधार करके इम्प्रूव किये जा सकता है.

2) सर्च इंजन मार्केटिंग (Search Engine Marketing)

सर्च इंजन मार्केटिंग(SEM) डिजिटल मार्केटिंग की ऐसी टेक्निक है जिसके द्वारा आप गूगल या जिसके द्वारा आप अपने प्रोडक्ट्स और सर्विसेज किसी भी यूज़र को दिखा सकते है.लेकिन इसके लिए आपको प्रॉपर कीवर्ड्स और टेक्निक की जरुरत होती है. किसी और सर्च इंजन को कुछ अमाउंट पे करके आपके वेबसाइट की रैंकिंग दिखा सकते है.आजकल यह टेक्निक सबसे ज्यादा गूगल पर ही ज्यादा यूज़ होती है.गूगल का “गूगल एडवर्ड टूल” इसमें आपकी मदत करता है.

 सर्च इंजन को एसइएम (SEM )के साथ साथ “पेड सर्च” (Paid Search )भी कहा जाता है वो पेड लिस्टिंग (paid listing )के  लिए यूज़ होता है.

पेड सर्च के जाने माने कई सारे प्लेटफॉर्म  है जिन को यूज़  हम कर सकते है. 

  • Google Ad words Tool
  • Bing Microsoft Advertising
  • Yahoo! Search Marketing
3) सोशल मीडिया मार्केटिंग (Social Media Marketing)

आजकल सोशल मीडिया किसको पता नहीं है? दुनिया के करीब 1.4 बिलियन लोग फेसबुक के यूज़र है.इसके तरह और भी कई सोशल मीडिया चैनल है.जैसे की इंस्टाग्राम,ट्विटर,लिंक्ड इन,स्नैपचैट,टिक-टोक आदि.इन सभी चैनल पे आप आपके पर्सनल या सोशल लाइफ और उसके रिलेटेड इवेंट्स शेयर कर सकते है.

आपको कोई भी इनफार्मेशन,इवेंट्स,सुचना,या आपकी पर्सनल लाइफ के रिलेटेड इनफार्मेशन जल्द से जल्द बहुत सारे लोगो तक पहचानी हो तो सोशल मीडिया इसके लिए एक स्ट्रांग प्लेटफॉर्म है.क्यों न हम सोशल मीडिया को अपने बिज़नेस के लिए यूज़ करे? ताकि इसके द्वारा हम अपने बिज़नेस मैं ज्यादा से ज्यादा प्रॉफिट कमा सके.

सोशल मीडिया मार्केटिंग में आप आपके बिज़नेस को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पंहुचा सकते है और अपने बिज़नेस की ब्रांड वेल्यू (Brand Value)बढ़ा सकते है

4) पे पर क्लिक एडवरटाइजिंग (Pay-Per-Click advertising)

अगर आप आपका प्रोडक्ट/सर्विसेज आपके कस्टमर को जल्द से जल्द दिखा के उनको बेचना चाहते है तो डिजिटल मार्केटिंग की “पे पर क्लिक एडवरटाइजिंग” (Pay per click) स्ट्रेटेजी आप यूज़ कर सकते है.

ज़्यादा तर पीपीसी का यूज़  गूगल एडवरटाइजिंग (Google Advertising) मै  होता है. जो आपके सर्च इंजन रिजल्ट पेज (Search engine result page)पे “एड “(Ads) दिखता है

पीपीसी  का यूज़ हम  सोशल मीडिया पे  भी कर है,

  • Facebook Paid Ads
  • Twitter Paid Ads
  • Sponsored Ads on Linkedin
5) कंटेंट मार्केटिंग (Content Marketing) 

कंटेंट मार्केटिंग एक ऐसी मार्केटिंग टेक्निक है जिसके द्वारा आप इंटरनेट यूज़र   के साथ रिलेवेंट इनफार्मेशन शेयर करते है.कंटेंट मार्केटिंग के द्वारा आप यूज़र को जिस भी इनफार्मेशन की जरुरत है उसको रेलेवेंट वेबसाइट पे शेयर कर सकते है.और उसी कंटेंट के द्वारा आप यूज़र को अट्रैक्ट  करके आपके वेबसाइट पे विजिट करवा सकते है जिससे आपके वेबसाइट की ट्रैफिक बढ़ने में मदत हो सकती है.

कंटेंट मार्केटिंग की वजह से कंपनी की सारी इनफार्मेशन लोगो तक पोहोचती  है उसका उपयोग कंपनी को क्लाइंट बढ़ा ने  में होती है और क्लाइंट के साथ विश्वसनीय संबंध  बन जाते है. आपका कंटेंट इतना अट्रॅक्टिव हो की लोग उस कंटेंट को पढके आपके अपकमिंग कंटेंट का वेट करते रहे और नई इनफार्मेशन के लिए आपकी वेबसाइट को बार बार विजिट करे.गूगल भी हमेशा यही निर्देश देता है की आपका कंटेंट ऑलवेज फ्रेश एंड यूनिक हो ताकि आपकी वेबसाइट जल्द से जल्द रैंक पे आ सकती है.

कोई भी मार्केटिंग “कंटेंट” के बिना पूरी नहीं होती। याद  रखे  एक स्ट्रांग कंटेंट ही किसी भी कंपनी,सर्विस , प्रोडक्ट और वेबसाइट को अच्छी तरह से लोगो तक पोहचाता है. 

लोगो को अपने प्रोडक्ट,सर्विसेसऔर ब्रांड, की इनफार्मेशन  पोहोचने का काम कंटेंट मार्केटिंग के ये २ प्रकार से होता है :-

  •  Blog posting 
  •  Article
6) एफिलिएट मार्केटिंग (Affiliate Marketing)

एफिलिएट मार्केटिंग एक ऐसी तकनीक है जो किसी भी वेबसाइट का प्रोमोशन करके कस्टमर  को  उनके वेबसाइट पर अट्रैक करती है उस प्रोडक्ट का सेल होने के बाद उस पर  कमिशन लेने का काम इस मार्केटिंग मे है.   एफिलिएट मार्केटिंग  (Affiliate Marketing) में प्रोडक्ट यूज़र के सामने इस तरह रिप्रेजेंट किया जाता है कि यूज़र उस प्रोडक्ट को खरीदने की लिए रेडी हो जाये.     

एक वेबसाइट के लिंक मे से दूसरी वेबसाइट को इन्टरनली ट्रैक करने का काम को ही एफिलिएट मार्केटिंग कहते है. 

एफिलिएट मार्केटिंग करते समय ये ३ चीज़े important होती है.

i) Seller and Company (Product creator): प्रोडक्ट क्रिएटर के पास ढेर  सारे प्रोडक्ट्स होते है मार्केटिंग और सेल करने के लिए पर वह डायरेक्ट सेल करने के साथ साथ  उस प्रोडक्ट को किसी सेलर से भी मार्केटिंग करवाता है  ताकि उसके प्रोडक्ट भी बिक जाये और उसके वेबसाइट पे नई ट्रैफिक भी जनरेट हो जाये और सेलर उसी प्रोडक्ट की मार्केटिंग करके उसे ओर  अट्रैक्टिव देखा कर कस्टमर तक पोहोचा कर  उस प्रोडक्ट को  बेचे और  अपना कमीशन भी ले सके 

ii) The Affiliate and Publisher: एफिलिएट मार्केटिंग एक ऐसी मार्केटिंग टेक्निक है जो प्रोडक्ट को कस्टमर तक पोहोचने  के लिए मार्केट बनती  है। जहा सामान्य कंपनी  अपनी ब्रांड का प्रोमोशन करवाती है जिससे ऑडियंस तक अपने प्रोडक्ट की एडवरटाइजिंग हो सके. एफिलिएट मार्केटिंग उसी प्रोडक्ट को वैल्युएबल बनाती है और लोगो को कन्वेन्स करती है की वो प्रोडक्ट परचेस करे.

iii) The Consumer: कस्टमर को ये पता नहीं रहता की प्रोडक्ट का असली सेलर कौन है वो तो बस प्रोडक्ट खरीदने में  इंटरेस्टेड रहता है . आप इन एफिलिएट प्रोडक्ट का प्रोमोशन सोशल मीडिया, ब्लोग्स, और वेबसाइट पर कर सकते है और अच्छा खासा कमिशन प्राप्त कर सकते है   

7) ईमेल मार्केटिंग (Email Marketing)  

आज  के  इंटरनेट  की दुनिया मे ईमेल  इम्पोर्टेन्ट फैक्टर बना है.

ईमेल मार्केटिंग के द्वारा भी आप आपके यूज़र के साथ अपडेट रह सकते है.आप ईमेल मार्केटिंग के द्वारा आपके अपकमिंग इवेंट्स,ब्लॉग और भी कई इनफार्मेशन आपके यूज़र के साथ शेयर कर सकते है.

इस टेक्नीक के ज़रिए आप आपके कंपनी के न्यूज़ रिलेटेड इनफार्मेशन , रिसेंटली पब्लिश ब्लोग्स,नई अपडेटेड इनफार्मेशन यूज़र को सेंड कर सकते है ताकि आपकी वेबसाइट में इंटरेस्ट रखने वाला कोई यूज़र आपके वेबसाइट को भूल भी गया होगा तो वो वापस आपके साथ जुड़ जायेगा.

8) मार्केटिंग ऑटोमेशन (Marketing Automation)

मार्केटिंग ऑटोमेशन सॉफ्टवेयर का यूज़ करके  हम किसी भी वेबसाइट का ऑटोमेटिक प्रोमोशन कर सकते है.इन सॉफ्टवेयर के द्वारा हम किसी भी  सोशल मीडिया साइट, ईमेल, और प्रमोशनल वेबसाइट  का ऑटोमेटिक प्रोमोशन कर सकते है 

मार्केटिंग ऑटोमेशन ये कस्टमर का पेर्सनली केयर करता है.

मार्केटिंग ऑटोमेशन   लीड  जनरेट, लीड स्कोरिंग , कस्टमर मार्केटिंग स्कील , और मार्केटिंग रेश्यो नियंत्रित रखता है. 

आपने वेबसाइट और सोशल मीडिया  से ऑडियंस से कनेक्ट रह कर ट्रैफिक बनाते है. 

मार्केटिंग ऑटोमेशन टूल्स के जरिये कस्टमर को सटिस्फीएड और प्रोडक्ट को सेफली रख कर काम करता है 

मार्केटिंग ऑटोमेशन सॉफ्टवेयर के इम्पोर्टेन्ट फीचर्स:- 

  • Account-based marketing 
  • Campaign management
  • Inbound marketing
  • Lead management
  • social marketing  
9) ऑनलाइन पी आर (Online PR)

ऑनलाइन पी आर  मतलब “ऑनलाइन पब्लिक रेलशन’

ये एक ऐसी तकनीक है जिससे हम ऑनलाइन लोगो के साथ  कम्यूनिकेट करके उनके विचार (thought )जान कर आपने वेबसाइट, सोशल मीडिया पोस्ट, ब्लोग्स पर सलाह दे सकते  है। 

सोशल मीडिया, गूगल, या किसी भी वेबसाइट पे आपने रिव्यू (review) देने के लिए इस का यूज़  कर सकते है। 

ऑनलाइन पी आर  डिजिटल मार्केटिंग की ऐसी टेक्निक है जिसके द्वारा हम , सोशल मीडिया और ब्लॉग की  रेटिंग बढ़ा कर अपनी वेबसाइट की रैंकिंग इम्प्रूव कर सकते है.ये एक ऐसा  फार्मूला है जिससे ब्रांड अवेयरनेस (brand awarness) बढ़ता है और हम ज्यादा से ज्यादा यूज़र के साथ कनेक्ट हो सकते है. 

ऑनलाइन पब्लिक रिलेशन ये अच्छा प्लेटफॉर्म है जो लोगो को अपनी व्यू ऑनलाइन शेयर करके आपने बिज़नेस डेवलपमेंट ,करियर ,पर्सनल व्यू और इन्स्पीरेनशनल व्यू भी जान सकते है. 

डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स कैसे करे?

डिजिटल मार्केटिंग के कोर्सेज तो आज बहुत सरे है, लेकिन जरुरत है की आप सही जगह से ही सीखें, क्यूंकि आज बहुत सरे लोगो डिजिटल मार्केटिंग की ट्रेनिंग दे रहे लेकिन उसको भी जायदा प्रैक्टिकल अनुभव नहीं है. ४ तरह से आप डिजिटल मार्केटिंग के कोर्सेज कर सकते या में यूँ कहूँ की यहाँ से सीख सकते है.

  1. ऑनलाइन कोर्सेज
  2. डिजिटल मार्केटिंग क्लासेज
  3. यूट्यूब
  4. ऑनलाइन ब्लोग्स

आज के अपडेटेड ज़माने मैं लोगो को नए टेक्नोलॉजी का काफी नॉलेज है।  सोशल मीडिया , ऑनलाइन गेम्स,ऑनलाइन शॉपिंग, और भी बहुत कुछ…. 

पर ये सब आता कहा से है?

कोण करता है सोशल मीडिया पे ये पोस्टिंग और  एडवरटाइजिंग ?

ऑनलइन शॉपिंग करते समय कोण करता है Amazon or Flipkart पे प्रोडक्ट लिस्टिंग?

इन सरे सवालों का एक ही  जवाब  है और वो है  “डिजिटल मार्केटिंग “

डिजिटल मार्केटिंग ये ऐसा प्लेटफॉर्म है जिसे पे आप आपने वेबसाइट डिज़ाइनिंग  से लेकर एडवरटाइजिंग,ब्लॉग पोस्टिंग, इ-कॉमर्स  वेबसाइट पे ऑनलाइन शॉपिंग कैसे करे ये सारी चीज़े इजीली सीख सकते है। 

कैसे  सीखे  डिजिटल मार्केटिंग ?

डिजिटल मार्केटिंग सीखने के कई तरीके है जैसे की  डिजिटल मार्केटिंग कोर्सेस(Digital marketing courses) ,टूटोरियल(Tutorial), ऑनलाइन वेबसाइट(Online websites) ,यूट्यूब(Youtube) , डिजिटल मार्केटिंग इंस्टिट्यूट(Digital marketing institutes). इन सब का उसे करके आप डिजिटल  मार्केटिंग सीख सकते है।

डिजिटल मार्केटिंग मे सब से इम्पोर्टेन्ट होता है डेली अपडेशन। ये सिर्फ थेरेओटिकल पढ़ने  से समजा या सीखा नहीं जा सकता इसका प्रक्टिकल इम्प्लीमेंटेशन (Practical Implementation)भी होना  चाहिए।  

इसको प्रक्टिकली इम्प्लीमेंट कैसे करे ?

आप  ने जो  भी सीखा उस की इम्प्लीमेंशन करके खुद की एक वेबसाइट बनाये जिस को अच्छे से डिज़ाइन  करके मतलब डिजिटल मार्केटिंग के फैक्टर्स को ध्यान मे रख कर बेस्ट वेबसाइट बनाये और उसकी रैंकिंग कैसे बढे इस पर फोकस करे।

डिजिटल मार्केटिंग सीखने ने के साथ साथ डेली अपडेट रहना भी  जरूरी है। सोशल मीडिया पे आर्टिकल पढ़े, दुनिया के बेहतरीन डिजिटल मार्केटर्स के ब्लोग्स पढ़े, जैसे की –

Neil Patel
Backlinko
Gary Vaynerchuk
Moz

डिजिटल मार्केटिंग के लाभ क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग के तो वैसे बहुत सरे लाभ है लेकिन इस ब्लॉग में हम सिर्फ ५ लाभ के बारे में बात करेंगे जो सबसे जायदा आपके लिए फायदेमंद है. तो चलिए जानते है डिजिटल मार्केटिंग के लाभ.

  1. आपके कस्टमर की सटीक जानकारी पा सकते है
  2. लीड जनरेशन के लिए
  3. कन्वर्जन रेट को सुधरे के लिए
  4. अपने बिज़नेस के रेवेनुए को बढ़ाने के लिए
  5. और अपनी कंपनी की छवि सुधारने के लिए

आज के कॉम्पीटीशन के युग में लोगो तक आसानी से पोहोचने का डिजिटल मार्केटिंग एक आसान और बेहतर तरीका है। 

डिजिटल मार्केटिंग से एडवरटाइजिंग होने के कारण बहुत सरे बिज़नेस ज़्यादा  से ज़्यादा समय मार्केटिंग पे फोकस कर रहे है ।  तेजी से बढ़ता ये डिजिटल मार्केटिंग प्लेटफॉर्म आप सबके  डेली लाइफ मे सबसे इम्पोर्टेन्ट पार्ट बन गया है।  

डिजिटल मार्केटिंग ये  प्रोडक्ट्स और सर्विसेस का प्रोमोशन करने  वाला इलेक्ट्रॉनिक  मीडिया का इम्पोर्टेन्ट  पार्ट है।  ऑफलाइन मार्केटिंग के  तुलना मे  डिजिटल मार्कटिंग काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है। 

इन सब के चलते डिजिटल मार्कटिंग के बेनिफिट्स  भी समझना भी उतना ही जरूरी है।

1) आपके कस्टमर की सटीक जानकारी पा सकते है

आज के डिजिटल मार्कटिंग के ज़माने में हम  आपने  वेबसाइट से  ट्रैफिक इनफार्मेशन 

लेकर  आपने ब्रांड की प्रोमोशन करने  के लिए डाटा एनालिसिस करके अपनी रैंकिंग  बढ़ाने की कोशिश   करते है।    अपने वेबसाइट पे आने वाली ट्रैफिक का लोकेशन (Location),उनकी ऐज(Age), सेक्स(Sex) और अपने  वेबसाइट पे इंटरेस्ट ऑडियंस  (Interested Audience) वो ऑडियंस आपके  वेबसाइट पे कितना टाइम बिताते है , वेबसाइट पे ट्रैफिक कैसे  आती है। उनका बाउंस रेट(Bounce Rate) उस ट्रैफिक को कैसे  बदला जाय ? 

 इन सब चीज़ो  का अनालिसिस  होता है.

2) लीड जनरेशन के लिए

हर बिज़नेस को बढ़ाने के लिए  उसमे अच्छा कंटेंट का होना जरूरी होता है। सोशल  मीडिया मे लीड जनरेट करने के लिए ,एडवरटाइजिंग  के लिए इन्फोर्मटिव और इंटरेस्टिंग कंटेंट  का होना इम्पोर्टेन्ट है। 

सोशल मीडिया का यूज़ करके कस्टमर अपनी वेबसाइट  की तरफ ज्यादा अट्रैक होकर  वेबसाइट  पर ज्यादा टाइम देते है और आपने प्रोडक्ट  को सही वेल्यू  देते है। 

वेबसाइट  जितनी enangaged  दिखेगी (मतलब आपके वेबसाइट पे जितने ज्यादा यूज़र विजिट करेंगे )उतना  गूगल आपके कंटेंट को  रेवेलेंट  मानेगा और आपकी वेबसाइट की रैंकिंग को इम्प्रूव करेगा  

डिजिटल मार्केटिंग से  आप ये  देख सकते है की कितने लोगो ने आपके वेबसाइट के कंटेंट को पढ़ा और लीड जेनरेशन फॉर्म   (Lead generation form)को भरा है ,कितने लोगो ने आपका ई बुक   डाउनलोड किया है उसकी लिस्ट भी हमे डिजिटल मार्केटिंग से  पता चलती  है।     

 और इन्ही सब एक्टिविटीज को हम लीड जेनरेशन कहते है.

3) कन्वर्जन रेट को सुधरे के लिए

आपने वेबसाइट पे ट्रैफिक बनाइए रखने के लिए  हमें अपनी एडवरटाइजिंग और वेबसाइट को अट्रैक्टिव ( Attractive) बनाना होगा। 

एडवरटाइजिंग या  डिजिटल मार्केटिंग मे लीड जनरेट करते समय कस्टमर और बिजनेसमैन मे बातचीत हो सकती है।  किसी भी  कस्टमर की क्वेरी(query) मिटाने के लिए कस्टमर फ़ोन का यूज़  न करके ऑनलाइन मेसेंजर से मैसेज कर सकता है 

इन सब चीजों से बिज़नेस मे  लीड बढ़ेंगे और conversion rate भी .

4) अपने बिज़नेस के रेवेनुए को बढ़ाने के लिए

डिजिटल मार्केटिंग प्लेटफॉर्म का यूज़ करके हम आपने बिज़नेस का रेवेन्यू बढ़ा सकते है अपनी वेबसाइट का रेवेन्यू बढ़ने के लिए डिजिटल मार्केटिंग प्लेटफॉर्म सबसे बेहतरीन ऑप्शन है .

अपने कस्टमर को ध्यान मैं रखकर उनके लिए नए नए ऑफर लाना और अपनी एडवरटाइज डिजिटल चॅनेल्स पे करके बिज़नेस की प्रमोटिंग करना अपने बिज़नेस की रेवेन्यू बढ़ा सकते है. 

5) लोगो का भरोसा जीतने के लिए और अपनी कंपनी की छवि सुधारने के लिए

वैसे तो कोई भी अपनी वेबसाइट पे आ के विजिट कर सकता है लेकिन डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा हम उन लोगो को टारगेट कर सकते है जो हमारे प्रोडक्ट्स या सर्विसेज में इंटरेस्टेड है 

सोशल मीडिया और ब्लॉग्गिंग साइट्स जैसे स्मार्ट साइट्स से हम ऑडियंस से कम्यूनिकेट कर सकते है  इससे हम लोगो से वैल्युएबल रिव्यू भी ले सकते है और इन  रिव्यू की अपनी वेबसाइट की रैंकिंग बढ़ने में मदद मिलती है  

डिजिटल मार्कटिंग के इन्ही स्ट्रेटेजी से हम बिज़नेस को आगे बढ़ा और लम्बे समय तक चला सकते है। 

ये सब बेनिफिट्स थे डिजिटल मार्केटिंग के  इन् सब  का इस्तेमाल करके आप को आपने बिज़नेस को प्रमोट करना है लोगो तक पोहचना है .इन्ही बेनिफिट्स के कारण डिजिटल मार्केटिंग प्लेटफॉर्म बढ़ रहा है , में अपनी  वेल्यू बढ़ा रहा है और लोगो से फ्रेंडली हो कर उस पे ब्रांड ,प्रोडक्ट की प्रमोटिंग हो रही है। 

डिजिटल मार्केटिंग मे रेवेलेंट कंटेंट से एडवरटाइजिंग करके  स्ट्रॅटजी को और भी  स्ट्रांग बनाया जा सकता है। 

सर्च इंजन के  मदद से हम गूगल पे रैंकिंग बढ़ने के साथ साथ ट्रैफिक भी बढ़ा सकते है।  

डिजिटल मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए?

आज के इस दौर में बहुत से लोग है जो डिजिटल मार्केटिंग से अच्छा खासा पैसा कमा रहे है और अछि लाइफस्टाइल एन्जॉय कर रहे है. आज बहुत सरे तरीके है डिजिटल मार्केटिंग में जिससे आप घर बैठे पैसा कमा सकते है. इस ब्लॉग पोस्ट में हम ५ ऐसे ही तरीको की बात करेंगे जो की इस प्रकार है.

  1. सोशल मीडिया एक्सपर्ट बनकर
  2. यूटूबर बनकर
  3. ब्लॉग्गिंग से
  4. एसइओ (SEO) एक्सपर्ट बनकर
  5. ईमेल मार्केटिंग
  6. मोबाइल मार्केटिंग और ऍप क्रिएशन
  7. एसएमएस मार्केटिंग
  8. ऍप बेस मार्केटिंग
  9. कंटेंट राइटिंग

आज का  जमाना बदल गया है पहले लोगो को पैसे कमाने के लिए  ८/९  घंटो काम करना पड़ता था पर अब समय बदल गया है घर मे बैठकर ही हम पैसे कमा सकते है। डिजिटल मार्कटिंग एक ऐसा  ऑनलाइन प्लेटफॉर्म  है जिसकी वजह से आप अपने घर मे बैठे बैठे ही पैसे कमा सकते है।इस की कारण आप एक ही जगह से अपने लैपटॉप की मदत से अपना  बिज़नेस  शुरू कर सकते है। 

 डिजिटल मार्केटिंग ने बिज़नेस की दुनिया मे तहेलका मचाया है। 

सोशल मीडिया(Social Media), एसइओ (SEO) ,वेबसाइट डिज़ाइनिंग (Website designing),फ्रीलांसिंग(Freelancing), डिजिटल मार्केटिंग कंपनी ( Digital marketing Company),पेड मार्केटिंग (Paid Marketing) इन  सब का यूज़ करके पैसे कमा सकते है  

1) सोशल मीडिया(Social Media): सोशल मीडिया ये एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जिससे आप आसानी से पैसे कमा सकते है। फेसबुक ,इंस्ट्राग्राम, ट्विटर इन सब पे आप  बिज़नेस का  प्रोमोशन कर सकते है। सोशल मीडिया के कई टूल्स है जिस का यूज़ करके हम  ऑडियंस को बिज़नेस  टारगेट कर के क्लिक्स बढ़ा सकते है जिससे आपको एडवरटाइजिंग करने मे और अवेयरनेस बढ़ाने  मे काम  आता है

2) यूट्यूब(YouTube): कुछ  लोग सोशल मीडिया पर बहुत ही आसान तरीके से पैसे कमा लेते है। उनके लिए ये सरल होता है। आप इसमें रातों-रात अमीर नहीं बन सकते, इस लिए यूट्यूब की मदत से आप आकर्षक वीडियो बनाकर अपने चैनल पर शेयर कर सकते है, तो यूट्यूब पर वीडियो बना कर पैसे कमा सकते है। 

3) ब्लॉग पोस्टिंग (Blog Posting ): इंटरनेट मार्केटिंग मे  पैसा कमा ने का सबसे बेहतरीन तरीका ब्लॉगिंग बिज़नेस है।अगर आप यूज़र फ्रेंडली और अच्छा  ब्लॉग बना ने मे सफल  हो  जाते तो आप महीनों   मे अच्छी कमाई कर  सकते है। ब्लॉग्गिंग करने के लिए सर्वप्रथम अपना विषय तय कर ले ,उसके बारे में रोजाना ब्लॉग लिखना स्टार्ट करे । हो सके तो आपको ऑनलाइन रीडर मिलने में कुछ महीनों का टाइम लग जाए पर जब आप एक बार कामयाब हो जाएं, तो आपको  सफलता  मिलेगी। 

4) एसइओ (SEO): एसइओ से आप बड़े ही आसानी से पैसे कमा सकते है।  सर्च इंजन का सबसे इम्पोर्टेन्ट पार्ट है  आपने  वेबसाइट की विसिबिलिटी (visibility) को बढ़ा कर सर्च इंजन रिजल्ट पेज पे रैंकिंग बढ़ा ना।  एसइओ मे कीवर्ड की   मदत से साइट को  ज़्यादा विजिट मिलते है वही कीवर्ड्स किसी भी कस्टमर ने ज़्यादा बार सर्च किया तो वो रिजल्ट पेज पे सबसे ऊपर आता है। बिज़नेस करते समय जो भी  कीवर्ड्स को बैलेंस रखता है वो वेबसाइट को सर्च इंजन पे  आसानी से ऊपर ला सकता है। 

5) ईमेल मार्केटिंग (Email marketing): ईमेल मार्केटिंग ये ,मार्केटिंग का ऐसा तरीका है मध्यम से  एडवाइसर  प्रोडक्ट्स की इनफार्मेशन कस्टमर तक भेज सकते है। और बिज़नेस डील भी ईमेल मार्कटिंग से हम कर सकते है।   ईमेल के जरिये ही कस्टमर का फीडबैक भी ले सकते है जो हमारी बिज़नेस को बढ़ा ने मैं काम आये ।

6) मोबाइल मार्केटिंग और ऍप क्रिएशन: मोबाइल मार्केटिंग ये डिजिटल मार्केटिंग का नया तरीका है। 

7) एसएमएस मार्केटिंग:- ये मार्केटिंग हम एसएमएस के द्वारा भी कर सकते है। इसका यूज़ छोटे छोटे बिज़नेस की मार्केटिंग के लिए किया जाता है।  

8) ऍप बेस मार्केटिंग :-डिजिटल मार्कटिंग के मदत से आप  ऍप क्रिएट कर के भी मार्केटिंग हो सकते है।  किसी भी डेवेलपर को आपने वेबसाइट के Releated App बनवा कर  Play Store मै se उसे  डाउनलोड करवा ले उस app ke jariye आपने वेबसाइट की  विजिबिलिटी  बढ़ सकती है।

9) कंटेंट राइटिंग (Content writing):– कंटेंट मार्केटिंग  से भी आप पैसे कमा सकते है।  किसी  भी  विषय के लिए ऑनलाइन कंटेंट लिख कर उसे पब्लिश करे इस की वजह से आपका ब्लॉग लोगो तक पोहोच सकता है और लोग आपके उस ब्लॉग पे फीडबैक दे कर आपके काम को बढ़ा सकते है।  ये अच्छा तरीका है डिजिटल मार्कटिंग के जरिये पैसे कमा ने का। 

डिजिटल मार्केटिंग क्यों जरुरी है आपके बिज़नेस के लिए?

आज के इस दौर में सभी लोगो के पास स्मार्टफोन्स है और इंटरनेट भी काफी सस्ता हो गया है जिसके कारण देश में डिजिटल क्रांति सी आ गयी है. सभी लोग आज डिजिटल प्लेटफॉर्म्स का उपयोग कर रहे है, इसलिए जरुरी है की आप भी अपने बिज़नेस को डिजिटल मार्केटिंग की हेल्प से प्रमोट करे.

जैसे की हम मानते है जमाना डिजिटल होता जा रहा है। ऐसे मे डिजिटल मार्केटिंग ये बिज़नेस की  उच्चइया छू रहे है। चाहे वो बिज़नेस छोटा हो या बढ़ा पर  डिजिटल मार्केटिंग सभी के लिए जरूरी है। 

आपके  कंपनी के  प्रोडक्ट्स  भारत मे या  दुनिया के किसी भी कोने मे डायरेक्टली पोहोचना नामुमकिन है। अगर आपके प्रोडक्ट्स दो या तीन शहरों मे आप बेचना चाहते है तो कुछ सैल्समैन के द्वारा यह पॉसिबल है। लेकिन यही प्रोडक्ट अगर आप दुनिया भर मे बेचना चाहते है तो ये सिर्फ और सिर्फ डिजिटल मार्कटिंग के द्वारा ही पॉसिबल है।

  • डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा आप आपने प्रोडट्स और सर्विसेस  दुनिया भर के किसी भी कोने मे किसी भी इंसान को दिखा सकते है। 
  • डिजिटल मार्केटिंग से आप कंपनी की यूज़र एन्गेजमेन्ट बढ़ा सकते है और घर बैठे आपके ब्रांड का प्रोमोशन कर सकते है। 
  •  डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा आप आपके ब्रांड या  कम्पनी का  अवेयरनेस (Awarness) बढ़ा सकते है ताकि आज की डिजिटल  दुनिया मे आपकी ब्रैंड  वेल्यू (brand value) तैयार होती है।  और लोग आपको  एक ब्रैंड के नाम से पहचान सकते है।
  • डिजिटल मार्केटिंग से हम उन्ही लोगो को टारगेट कर सकते है जो आपके प्रोडक्ट मै इंटरेस्टेड होते है उनसे हमे अच्छा conversion  मिलता है। 
  • ट्रेडिशनल मार्केटिंग के  तुलना मे डिजिटल मार्केटिंग की कॉस्ट कम आती है जिससे हमे पैसे कमाने मै  फायदा होता है। 

डिजिटल मार्केटिंग FAQ

डिजिटल मार्केटिंग के उदाहरण क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग के कुछ उदाहरण: सोशल मीडिया मार्केटिंग, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन(SEO), सर्च इंजन मार्केटिंग(SEM), ईमेल मार्केटिंग, कन्टेन्ट मार्केटिंग, एफिलिएट मार्केटिंग और मार्केटिंग ऑटोमेशन।

डिजिटल मार्केटिंग करियर के हिसाब से कैसा है?

डिजिटल मार्केटिंग ये एक अविश्वसनीय प्लेटफार्म है जो आपके करियर को तेजी से आगे बढ़ा सकता है। डिजिटल मार्केटिंग ये ऐसी इंडस्ट्री है जिसमे करियर बना ने में डिजिटल टेक्नोलॉजीज का अच्छा नॉलेज होना चाहिए जो फ्रेशर और एक्सपेरिएंस्ड लोगो को इस प्लेटफार्म में सिक्योर करियर दे सक।इसमे PPC ,SEO, SEM, सोशल मीडिया,और मार्केटिंग का नॉलेज ही आपके जॉब सिक्योरिटी होगी।

डिजिटल मार्केटिंग में भविष्य कैसा है?

डिजिटल मार्केटिंग आने वाले समय में बहुत ही अच्छी टेक्निक्स के साथ मार्केटर्स के लिए ब्राइट फ़्यूचर बना रहा है।सोशल मीडिया, सर्च इंजन मार्केटिंग से डिजिटल मार्केटिंग अच्छा बिज़नेस कर सकता है।अगर आप डिजिटल मार्केटिंग में करियर बना ने का सोच रहे है तो आने वाले फ़्यूचर में डिजिटल मार्केटर जॉब प्रोफाइल में सबसे टॉप जॉब एप्लीकेशन होगा।

डिजिटल मार्केटिंग क्यों इम्पोर्टेन्ट है ?

डिजिटल मार्केटिंग में कोई भी बिज़नेस शुरु करने से पहिले हम आपने बिज़नेस रिलेटेड ऑडियंस चाहिए जो आपके बिज़नेस की रैंकिंग बढाए। आपनी ऐसी बिज़नेस स्ट्रेटेजी होनी चाहिए जो बिज़नेस नेटवर्किंग को बेटर और आसान बनाये।अपना ब्रांड, वेबसाइट की विजिबिलिटी रैंकिंग में ध्यान देना इम्पोर्टेन्ट है।

भविष्य में डिजिटल मार्केटिंग का क्या स्कोप है?

डिजिटल मार्केटिंग ये  मार्केटिंग के लिए सबसे बड़ा स्कोप है  इसकी वजह से बिज़नेस शुरु करने के लिए किसी भी ऐज लिमिट या कोई सिमा नहीं होती। डिजिटल टेक्नोलॉजी से ऑफलाइन मार्केटिंग की वैल्यू ऑनलाइन मार्केटिंग से सामने कम हो रही है जिसके कारन डिजिटल मार्केटिंग फ्यूचर बना रहा है।  साथ साथ एम्प्लोयी को एडवरटाइजिंग इंड्रस्ट्री की और अट्रैक कर रहा है

डिजिटल मार्केटिंग में सफल कैसे हो?

डिजिटल मार्केटिंग में डेली अपडेट रहने से  किसी भी बिज़नेस को अच्छी रैंकिंग दे सकते है। डिजिटल मार्केटर एक्सपर्ट के ब्लॉग पढ़ने से हम प्रक्टिकली इम्प्लीमेंट कर के अच्छी वेबसाइट डिज़ाइन करके SEO तकनीक से इम्प्लीमेंशन कर सकते है। 

निष्कर्ष

आज की  एडवांस दुनिया में कस्टमर ऐसी टेक्नोलॉजी चाहते है जो लोगो का बिज़नेस अवेर्नेस और विजिबिलिटी को बनाये रहके। डिजिटल  मार्केटिंग ही है जो सभी मार्केटर के लिए opportunity क्रिएट करा  रहा है।

डिजिटल इंडस्ट्री में अपने बिज़नेस की ग्रोथ करने के लिए डिजिटल मार्केटिंग ये सबसे बेस्ट और आसान तरिका है।अपना ज़्यादा समय न गावकर काम मेहनत से करियर बनाने का अच्छा तरिका है।


Like it? Share with your friends!

Aishwarya Jagtap
हेलो फ्रेंड्स , मेरा नाम ऐश्वर्या जगताप है , और मैं lovelifecaree.com की Author हु । मुझे टेक्निकल ब्लोग्स लिखना पसंद है। यहाँ मेंने बड़े ही आसान तरीके से हिंदी में आपको करियर के बारे में- डिजिटल मार्केटिंग , बिज़नेस , इन्वेस्टमेंट , और इंटरनेट से एअर्निंग कैसे करे। इन सब के रिलेटेड टिप्स आप को suggest किये है।

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Choose A Format
Personality quiz
Series of questions that intends to reveal something about the personality
Trivia quiz
Series of questions with right and wrong answers that intends to check knowledge
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Countdown
The Classic Internet Countdowns
Open List
Submit your own item and vote up for the best submission
Ranked List
Upvote or downvote to decide the best list item
Meme
Upload your own images to make custom memes
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Audio
Soundcloud or Mixcloud Embeds
Image
Photo or GIF
Gif
GIF format